मंगलवार को सुबह की पाली में यूपी बोर्ड की हाईस्कूल गणित की परीक्षा के दौरान इलाहाबाद के कन्हई सिंह सिंगरौर इंटर कॉलेज खटांगी गांजा से फोटोकॉपी मशीन बरामद की गई। सामूहिक नकल पर इस स्कूल के केंद्र व्यवस्थापक नंद लाल सिंह को गिरफ्तार करवाते हुए जिला विद्यालय निरीक्षक आरएन विश्वकर्मा ने पिपरी थाना कौशाम्बी में नकल निवारण अधिनियम 1998 के तहत एफआईआर दर्ज कराई।

इस केंद्र की हाईस्कूल गणित की परीक्षा निरस्त करने की संस्तुति यूपी बोर्ड से की गई है। डीआईओएस आरएन विश्वकर्मा की टीम ने मंगलवार को 10.45 पर परीक्षा समाप्त होने से दस मिनट पहले 10.35 बजे इस स्कूल में छापा मारा तो केंद्र व्यवस्थापक के कमरे से फोटोकॉपी मशीन और उससे फोटोकॉपी किये गये प्रश्नपत्र की पृष्ठ संख्या 10 व 11 भी बरामद किये।

मशीन को सील करके पिपरी थाने को सौंप दिया गया। पुलिस ने स्कूल के प्रधानाचार्य नंद लाल सिंह को गिरफ्तार कर लिया। डीआईओएस ने बताया कि सॉल्वरों से गणित का पर्चा हल करवाने के बाद इस मशीन से फोटोकॉपी करके छात्रों को बांटकर सामूहिक नकल करवाई जा रही थी। छापा मारने वाली टीम में प्रभाकर त्रिपाठी, दीपक पांडेय, नीलू और सीमा ओझा शामिल थीं।

एक साल तक की सजा और जुर्माने का प्रावधान

इलाहाबाद। कन्हई सिंह सिंगरौर इंटर कॉलेज खटांगी गांजा के केंद्र व्यवस्थापक नंद लाल सिंह को एक साल तक की सजा या पांच हजार रुपये जुर्माना या दोनों दंड मिल सकता है। उत्तर प्रदेश सार्वजनिक परीक्षा (अनुचित साधनों का निवारण) अधिनियम 1998 में सजा और जुर्माने का प्रावधान है। अधिनियम की धारा सात के मुताबिक कोई भी व्यक्ति जिसे परीक्षा की जिम्मेदारी सौंपी गई है वह किसी परीक्षार्थी को अनुचित साधन के प्रयोग में किसी प्रकार की सहायता या सहयोग प्रदान नहीं करेगा।

इनका कहना है

थाना कौशाम्बी  पिपरी  के एसएचओ अर्जुन सिंह ने कहा कि प्रधानाध्यापक नंदलाल को अरेस्ट किया गया है। इन्ही को केंद्र व्यस्थापक बनाया गया है। कॉलेज से फोटोस्टेट मशीन, पेपर, साल्व पेपर मिला है।

,